8 C
New York
Tuesday, January 31, 2023

Buy now

spot_img

Indian Currency Changes Taking Place From Mughal Period To Post Independence Know The History


Indian Currency History: भारत में मुगलकाल से लेकर आजादी के बाद तक समय-समय पर करेंसी में बदलाव होते रहे हैं. देश में भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) अधिनियम 1934 के तहत मुद्रा जारी करता है. आरबीआई के जारी किए गए नोट ही मान्य होते हैं. भारतीय करेंसी (Indian Currency) में बदलाव को लेकर अब दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) ने बुधवार (26 अक्टूबर) को केंद्र सरकार से मांग करते हुए नोटों पर गांधी जी के साथ भगवान गणेश और लक्ष्मी की तस्वीर छापने की मांग की है.

केजरीवाल ने कहा कि भारत की अर्थव्यवस्था को विकसित बनाने के लिए कोशिश तभी सफल होगी, देवी-देवताओं का आर्शीवाद हो. ऐसा नहीं कि इस प्रकार की मांग पहली बार की गई है. केंद्र सरकार केजरीवाल की इस मांग पर क्या एक्शन लेती है यह तो देखने वाली बात होगी. 

पहले भी उठी ऐसी मांग

इससे पहले कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) की अगुवाई वाली नेशनल एडवाजरी काउंसिल के सदस्य रह चुके नरेंद्र जाधव ने भी भारतीय नोटों पर महात्मा गांधी के साथ-साथ संविधान निर्माता बीआर अंबेडकर और स्वामी विवेकानंद की तस्वीरें भी छापने की मांग की थी. वहीं, नेताजी सुभाष चंद्र बोस के परिजन भी नए नोटों पर नेताजी की तस्वीर छापने की मांग कर कई बार कर चुके हैं. बीजेपी भी इस मामले में पीछे नहीं रही है.

ताज़ा वीडियो

महाराष्ट्र बीजेपी के उत्तर भारतीय मोर्चा के महासचिव अर्जुन गुप्ता ने नए एक हजार रुपये के नोट पर पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की तस्वीर लगाने की मांग की थी. कई बार इस प्रकार की खबरें भी सामने आई कि कुछ नए नोटों पर रवींद्रनाथ टैगोर और डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम आजाद की फोटों छापी जाएगी. हालांकि, आरबीआई ने इस प्रकार की खबरों को खारिज कर दिया. 

आजादी से पहले भारतीय रुपये

आजादी से पहले भी आरबीआई ही भारतीय करेंसी को छापा करता था. पहली बार आरबीआई ने 1938 में ब्रिटेन के राजा जॉर्ज VI की फोटो के साथ 5 रुपये का नोट जारी किया था. फिर बाद में 10 रुपये, 100 रुपये से लेकर 1000 और बाद में 10000 रुपये तक का नोट जारी किया गया. ब्रिटिश काल में जारी किए गए ये सभी नोट आजादी के बाद तक कुछ समय तक चलन में रहे थे. 

आजादी के बाद डिजाइन में किया गया बदलाव

अंग्रेजों से आजादी मिलने के बाद भारतीय रुपये को नए सिरे से डिजाइन किया गया. इसमें सबसे बड़ा बदलाव 1949 में आरबीआई ने फोटो को बदलकर किया. आरबीआई ने भारतीय रुपये पर ब्रिटिश किंग जॉर्ज VI की फोटो को हटाकर उसकी जगह राष्ट्रीय चिह्न अशोक स्तंभ को जगह दी. 

आजादी के बाद 1950 में भारतीय रुपये 2, 5, 10 और 100 रुपये के नोटों के रंग और डिजाइन में मामूली बदलाव किया गया. वहीं, 1954 में तंजौर की फोटो के साथ 1000 का नोट गेटवे ऑफ इंडिया की फोटो के साथ 5000 हजार, अशोक स्तंभ की फोटो लगा 10000 रुपये का नोट जारी किया. सरकार ने 1978 में हाई वेल्यू नोटों को डिमोनिटाइजेशन कर दिया.



Source link

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,689FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles