3.8 C
New York
Thursday, February 9, 2023

Buy now

spot_img

Himachal Pradesh Assembly Elections BJP And Congress In Whose Favor What Are The Equations Abpp


हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनावों का बिगुल बज गया है. इस सूबे में साल 2017 विधानसभा चुनावों की बात की जाए तो अहम मुकाबला कांग्रेस और बीजेपी के बीच ही था, लेकिन साल 2022 विधानसभा चुनावों का नजारा बदला हुआ है. इस बार इन चुनावों में एंट्री हुई आम आदमी पार्टी की.

ऐसे में बीजेपी और कांग्रेस के सामने एक-दूसरे से निपटने के साथ ही आम आदमी पार्टी भी चुनौती है. इस सूबे की जनता ने 5-5 साल बीजेपी- कांग्रेस दोनों को ही मौका दिया है. यहां साल 1985 से चली आ रही हर 5 साल पर सत्ता में बदलाव की परिपाटी रही है. ऐसे में जहां कांग्रेस की उम्मीदें इसी ट्रेंड पर हैं, तो बीजेपी के सामने अपना पिछला प्रदर्शन बरकरार रखने की चुनौती है.

कांग्रेस सत्ता विरोधी लहर के भरोसे 

कांग्रेस इस बार सत्ता विरोधी लहर को अपनी जीत का हथियार बनाकर चल रही है. इसमें वो महंगाई और बेरोजगारी का गोला-बारूद लेकर बीजेपी पर चढ़ाई करने की तैयारी में हैं. इसके साथ ही वह सूबे में अपने कद्दावार नेता वीरभद्र सिंह की विरासत को कैश करा रही है. यही वजह है कि पार्टी ने दिवंगत नेता वीरभद्र सिंह के बेटे विक्रमादित्य सिंह और मंत्री रह चुके बीडी बाली के बेटे रघुबीर बाली को टिकट दिया है.

ताज़ा वीडियो

हिमाचल प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और सांसद प्रतिभा सिंह यहां कमान संभाले हुए है. वे सूबे के विधानसभा चुनाव को कांग्रेस के पक्ष में करने में अहम साबित हो सकती है. इसके साथ ही कांग्रेस ने सत्ता में आने पर  जनता से लोकलुभावने वादे किए है. इसमें पुरानी पेशन बहाल करने के साथ ही 300 यूनिट फ्री बिजली, औरतों को हर महीने 1500 रुपए और सरकारी नौकरी  दिए जाने जैसे वादे शामिल हैं.

इस सबके बीच कांग्रेस के सामने सूबे में पार्टी अंदरूनी कलह से निपटने की भी चुनौती है. उसके कई  पुराने नेता पार्टी छोड़ कर जा चुके हैं.  मंडी से पूर्व दिवंगत दिग्गज नेता पंडित सुखराम के पोते आश्रय शर्मा ने तो  कांग्रेस सेवादल यंग ब्रिगेड के प्रदेश अध्यक्ष युवा नेता सुदर्शन सिंह बबलू कांग्रेस छोड़ चुके हैं. 

बीजेपी है पीएम मोदी  के सहारे

हिमाचल प्रदेश में बीजेपी मोदी लहर को भुनाने की कोशिशों में हैं. यही वजह है कि पीएम मोदी तीन बार हिमाचल प्रदेश का दौरा कर चुके हैं. सूबे के की जनता के बीच पीएम नरेंद्र मोदी एक आकर्षण बरकरार है और इसी का फायदा उठाने की बीजेपी पुरजोर कोशिश कर रही हैं.

इस विधानसभा चुनाव में बीजेपी के सामने सबसे बड़ी चुनौती सत्ता परिवर्तन के ट्रेंड से पार पाने की है.  हर सीट के लिए पार्टी ने खास रणनीति तैयार की है. इसके लिए पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा खुद मैदान में उतरे हैं. वो अपने गृहराज्य में जनता को अपने पक्ष में करने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं.

वो राज्य के कई दौरे कर चुके हैं. अगस्त से ही उन्होंने अपने दौरों की शुरुआत कर दी थी. इन दौरे के दौरान वो इस पहाड़ी राज्य की जनता को केंद्र और राज्य सरकार की विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी दे रहे हैं. हर सीट के लिए पार्टी ने खास रणनीति तैयार की है.

नाराज बीजेपी कार्यकर्ताओं पर नजर

बीजेपी के  राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा अपने गृह क्षेत्र बिलासपुर में पार्टी के नाराज कार्यकर्ताओं की मानमुव्वल में लगे हुए हैं. कार्यकर्ताओं के मन की बात जानकर वह सूबे में पार्टी के नुकसान की भरपाई करने में लगे हैं. इसके साथ ही सूबे के सीएम भी जयराम ठाकुर भी इसी दिशा में काम करते दिखाई दे रहे हैं.

पार्टी के ये अनुभवी नेता आगामी विधानसभा चुनावों में किसी भी नुकसान से  बचने के लिए ये सुरक्षात्मक रवैया अपना रहे हैं. बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सौदान सिंह. पार्टी के सूबा प्रभारी अविनाश राय खन्ना  डैमेज कंट्रोल पॉलिसी पर खासा फोकस कर रहे हैं. इनकी कोशिशों का नतीजा रहा कि नाराज चल रहे पालमपुर विधानसभा सीट के प्रवीण शर्मा और ज्वाली के अर्जुन सिंह मान गए हैं. 

केंद्रीय नेता स्टार प्रचारक

हिमाचल प्रदेश के विधानसभा चुनाव 2022 की अहमियत के चलते बीजेपी ने अपने 40 स्टार प्रचारकों की लिस्ट जारी कर दी है. इसमें पीएम मोदी के अलावा केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, खेल, युवा मामलों के मंत्री और सूचना और प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर, सड़क परिवहन और राजमार्ग, जहाज़रानी, जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण मंत्री  नितिन गड़करी, उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी भी यहां पार्टी के पक्ष में प्रचार करेंगे.

इसके अलावा इन स्टार प्रचारकों में  प्रेमकुमार धूमल भी शामिल होंगे. भले ही पार्टी ने इस बार प्रेमकुमार धूमल को टिकट नहीं दिया, लेकिन उनकी अहमियत  बीजेपी हाईकमान को पता है. सूबे की चुनावी रैलियों में खुद पीएम नरेंद्र मोदी धूमल की तारीफ कर चुके हैं.

इसी वजह से सूबे की सुजानपुर सीट से टिकट देते हुए उनकी पसंद का खासा ध्यान रखा गया है.  स्टार प्रचारकों में उनका नंबर 9वां हैं, जबकि उनसे पहले सूची में 6 नंबर तक केंद्रीय नेता तो 7वें और 8वें नंबर पर सीएम जयराम ठाकुर और बीजेपी के प्रदेशाध्यक्ष सुरेश कश्यप है.

ये भी पढ़ेंः

हिमाचल प्रदेश: जब अपने ही वोट से सीएम बने थे शांता कुमार, कहानी 1977 के विधानसभा चुनाव की



Source link

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,706FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles