-2.9 C
New York
Wednesday, February 1, 2023

Buy now

spot_img

Arvind Kejriwal Lays Foundation Stone For Six Lane Flyover Citizens Will Get Freedom From Jam Signal Free Travel Anand Vihar Apasara Road Ann


CM Kejriwal Lays Foundation Of Flyover: मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) ने आनंद विहार (Anand Vihar) और अप्सरा बॉर्डर (Apasara Border) के बीच छह लेन (Six-lane) के फ्लाईओवर (Flyover) का शिलान्यास किया है. इस फ्लाई-ओवर के बन जाने के बाद हजारों लोगों को जाम से मुक्ति मिल जाएगी. इस अवसर पर सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि पूर्वी दिल्ली में इस फ़्लाईओवर के बन जाने से यहां से गुज़रने वाले वाहनों और पूर्वी दिल्ली के स्थानीय लोगों को काफ़ी फ़ायदा होगा. 

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि इस फ्लाईओवर का काम भी हम तय समय से पहले और 115 करोड़ रूपए की बचत के साथ पूरा करेंगे. हमने 300 करोड़ रुपए का फ्लाईओवर 1500-2000 करोड़ में बनते तो देखा है लेकिन 300 करोड़ का फ्लाईओवर 250 करोड़ में बनते पहली बार देख रहे हैं. अरविंद केजरीवाल ने कहा कि पहले पूर्वी दिल्ली को विकास से वंचित रखा गया था लेकिन हमारी सरकार बनने के बाद से यह सौतेला व्यवहार अब बंद हो गया है. यह फ्लाईओवर रामप्रस्थ, श्रेष्ठ विहार और विवेक विहार रेड लाइट के उपर से होकर गुजरेगा और 15 महीने में पूरा हो जाएगा. 

257 करोड़ रुपए का टैंडर

इस दौरान अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हमारा मकसद है कि दिल्ली की सड़कों से ट्रैफिक जाम व प्रदूषण खत्म किया जाए और खूबसूरत बनाया जाए. सड़कों को जाम मुक्त बनाने के लिए 77 प्वाइंट चिंहित किए गए हैं जहां सुबह-शाम जाम लगता है जिसे खत्म करने के लिए अलग-अलग प्लान बना रहे हैं. सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हमारी सरकार हर काम में पैसे बचाती है. इसमें भी हमने पैसे बचाए. इस फ्लाईओवर ओवर को बनाने की लागत 372 करोड़ रुपए स्वीकृत की गई थी लेकिन 257 करोड़ रुपए का टैंडर किया गया है. इस फ्लाईओवर में लगभग 115 करोड़ रुपए बचाए हैं. 

अरविंद केजरीवाल आगे बोले, ये लोग कई बार मुझसे पूछते हैं कि आप इतने काम कैसे कर लेते हो. आप स्कूल, अस्पताल, मोहल्ला क्लीनिक बना लेते हो, दवाइयां, बिजली और पानी फ्री कर दिया है. महिलाओं की बस में यात्रा फ्री कर दी है, तीर्थ यात्रा करा दी. इसके लिए पैसा कहां से आता है? हम हर काम में एक-एक पैसा बचाते हैं. अरविंद केजरीवाल ने कहा कि रानी झांसी फ्लाईओवर 200-300 करोड़ रुपए का बनना था लेकिन 1500 करोड़ रुपए में बन पाया. पहले ऐसा ही होता था. हमने 300 करोड़ रुपए का फ्लाईओवर 1500-2000 करोड़ रुपए में बनते तो देखा है लेकिन 300 करोड़ रुपए का फ्लाईओवर 250 करोड़ रुपए में बनते हुए पहली बार ही देख रहे हैं. अपने देश में यह अजूबा हो रहा है. हमारे पीडब्ल्यूडी के इंजीनियर बहुत अच्छे और शानदार हैं. ये 15 महीने का समय लेते हैं तो उसे 14 महीने में ही पूरा कर लेते हैं. अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हम इस फ्लाईओवर का काम कम समय में पूरा करेंगे और अच्छा फ्लाईओवर बनाएंगे.

मुफ्त बिजली के लिए 31 अक्टूबर तक फॉर्म

सीएम अरविंद केजरीवाल ने आगे कहा कि दिल्ली में पहले बिजली की सबको सब्सिडी मिलती थी लेकिन कई लोग हैं, जो बिजली का बिल देना चाहते हैं. उनका कहना है कि जबरदस्ती हमें सब्सिडी क्यों देते हैं? उनकी बात भी ठीक है कि किसी को जबरदस्ती सब्सिडी क्यों दें. जो सब्सिडी मांगे, उसे ही मिलनी चाहिए. इसलिए हमने मांगने वालों को सब्सिडी देना शुरू किया है. कुछ लोगों को गलतफहमी है कि 30 सितंबर तक ही सब्सिडी की मांग करने का समय था. ऐसा नहीं है. आप 31 अक्टूबर तक मोबाइल नंबर 7011311111 पर मिस्ड कॉल कर दीजिए. इसके बाद आपको एक मैसेज आएगा जिसमें एक फार्म होगा. उस फार्म को भर कर ऑनलाइन भेज दीजिए. इसके बाद आपका पंजीकरण हो जाएगा और आपको फ्री बिजली मिलती रहेगी. 

आप 31 अक्टूबर के बाद भी फार्म भर सकते हैं. अगर आप 31 अक्टूबर के बाद फार्म भरते हैं तो आपके पास अक्टूबर महीने का बिल आएगा और वो बिल माफ नहीं हो पाएगा. इसलिए सभी से अपील है कि जिनको फ्री बिजली का लाभ चाहिए वो लोग 31 अक्टूबर तक फार्म भर दें. अपने परिचितों को भी बताएं ताकि वो इसके लाभ से वंचित न रह पाए. अगर कोई स्वेच्छा से सब्सिडी नहीं लेना चाहता है तो अच्छी बात है. लेकिन ऐसा नहीं होना चाहिए कि किसी को पता न चले और वो इस लाभ से वंचित रह जाए. 

वाहन चालकों को ऐसे मिलेगी जाम से मुक्ति

इस प्रोजेक्ट के अंतर्गत आनंद विहार आरओबी और अप्सरा बॉर्डर आरओबी के बीच रोड नंबर-56 पर करीब 1440 मीटर लंबा और छह लेन का चौड़ा फ्लाईओवर का निर्माण किया जाएगा. इसके निर्माण के बाद रामप्रस्थ कॉलोनी, विवेक विहार और श्रेष्ठ विहार रेड लाइट पर लगने वाले ट्रैफिक जाम की समस्या से लोगों को मुक्ति मिल जाएगी. एनसीआरटीसी द्वारा रैपिड मेट्रो का स्टेशन बनाने के बाद इस फ्लाई ओवर से होकर प्रतिदिन औसतन 1.48 लाख वाहन गुजरेंगे. जिन्हें आवागमन में काफी सहूलियत हो जाएगी. यह प्रोजेक्ट स्कीम 77 कॉरिडोर में से एक है. इस फ्लाईओवर के निर्माण के दौरान रैंप, फूटपॉथ, साइनेज, स्ट्रीट लाइट, ड्रेनेज, हॉर्टिकल्चर समेत अन्य कार्य भी किए जाएंगे.

ढाई साल में रिकवर हो जाएगी फ्लाईओवर की लागत

इस फ्लाईओवर के निर्माण में आने वाली लागत करीब ढाई साल में रिकवर हो जाएगी. अनुमान है कि इस फ्लाईओवर पर प्रतिदिन करीब 1.48 लाख वाहन गुजरेंगे. एक बार सफर करने पर वाहन चालकों का करीब 11.07 मिनट बचेगा. साथ ही, 42700 घंटे प्रतिदिन मैन पावर की बचत होगी. कार्बन डाई ऑक्साइड का उत्सर्जन 1.50 लाख टन कम होगा. सालाना 16.57 लाख लीटर ईंधन की बचत होगी और प्रति वर्ष 144.78 करोड़ रुपए की बचत होगी.

यह भी पढ़ें.

Shiv Sena Symbol: चुनाव आयोग ने उद्धव गुट को पार्टी नाम के साथ दिया ‘मशाल’ चिह्न, शिंदे खेमे से सिंबल के लिए मांगे 3 नए विकल्प

Delhi News: AAP के पूर्व मंत्री राजेन्द्र पाल गौतम से दिल्ली पुलिस करेगी पूछताछ, धर्मांतरण कार्यक्रम में उपस्थिति को लेकर हुआ है विवाद



Source link

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,693FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles